Pages

Followers

Wednesday, January 22, 2014

'तहज़ीब-ए-लखनऊ'

पूरे देश ने दिल्ली के कानून मंत्री और पुलिस अधिकारी की बहस देखी ... यही बहस अगर लखनऊ मे हुई होती तो कुछ इस तरह होती :-
 
मंत्री जी : देखिए अगर आप हमारी बात नहीं मानेगें तो हम आपकी वालिदा मोहतरमा की शान में गुस्ताख़ना कलिमात पेश कर देंगे।
 
पुलिस अधिकारी : हज़ूर फ़िर हम भी आपके रुखसार मुबारक पे ऐसा तमाचा रसीद करेंगे कि गाल-ए-मुबारक गुलाब की मानिंद चमक उठेगा।

 
यह है 'तहज़ीब-ए-लखनऊ'।

 
आदाब अर्ज़ है |

1 comments:

Tushar Raj Rastogi said...

Hahahaha Hahahaha Hahahaha - bhai waah....mazaa aa gaya

Post a Comment